Hindi Notes

THE INTERJECTION IN HINDI विस्मयादिबोधक अव्यय हिन्दी में

||THE INTERJECTION IN HINDI||विस्मयादिबोधक अव्यय हिन्दी में ||


निम्नलिखित वाक्यों को ध्यानपूर्वक पढ़िए।

1. Hurrah! Our side has won.

2. Alas! Our side has lost.

3. Hush! | hear someone coming.

4. Bravo, Sachin! Well hit.

5. Hallo, Kapil! How are you?

6. Ah! That's the excuse every lazy boy makes. 

7. Oh! What a beautiful rose!

8. Hello! What are you doing there?

9. Alas! He is dead.

10. Ah! Have they gone?

11. Hush! Don't make a noise.

12. Oh! I got such a fright.

ऊपर लिखे हुए वाक्यों में से प्रत्येक वाक्य ऐसे शब्द से आरम्भ हुआ है जो हृदय की भावना को प्रकट करता है।

Hurrah! नामक शब्द आनन्द प्रकट करने के लिए किये जाने वाले शोर का बोधक है। 

Alas! नामक शब्द दुःख प्रकट करने वाली आवाज का द्योतक है।

ऐसे शब्दों को विस्मयादिबोधक अव्यय (Interjection) कहते हैं।

परिभाषा - विस्मयादिबोधक अव्यय (Interjection) वह शब्द होता है जिसका प्रयोग केवल हृदय में एकदम उठने वाले उद्गारो या भावनाओं को प्रकट करने के लिए किया जाता है। 

(An Interjection is a word used merely to express some sudden feeling of the mind.)


Interjection लैटिन भाषा के दो शब्दो- Inter और Jactus से मिलकर बना है। Inter का अर्थ है- मध्य और Jactus का अर्थ है-फेंका हुआ


अत: Interjection ऐसा शब्द है जो वाक्य में डाल दिया गया हो और जो वाक्य का आवश्यक अंग न हो।

प्रायः एक ही शब्द को भिन्न-भिन्न भावनाओं को प्रकट करने के लिए प्रयुक्त कर लिया जाता है;

जैसे―

(a) Oh! What a wicked lie!


यहाँ पर Oh! का प्रयोग घृणापूर्ण, रोष, क्रोध या तिरस्कार के लिए किया गया है।


(b) Oh! What a lovely child!


यहाँ पर Oh! का प्रयोग प्रशंसा तथा आनन्द प्रकट करने के लिए किया गया है। 


(c) Oh! The child will be run over!


यहाँ पर Oh! का प्रयोग भय, संकट और चिन्ता प्रकट करने के लिए किया गया है। 

Hurrah ! तथा Hazza से आनन्द (Joy) प्रकट होता है।

Alas! से दुःख (Grief) प्रकट होता है। 

Ha! तथा What से आश्चर्य (Surprise) प्रकट होता है। Bravo! से अनुमोदन (Approval) प्रकट होता है।

Ah me! For shame! Well done! Good gracious ! आदि शब्द-समूहों (Groups of words) का प्रयोग हृदय के तीव्र उद्गारों (Feeling or emotion) को प्रकट करने के लिए होता है।

संकेत― Interjection के अन्त मे सम्बोधन का चिन्ह (!) प्रयोग किया जाता है। विराम चिन्हों के प्रयोग (Punctuation) के लिए Interjection और उससे सम्बन्धित चिन्ह (Mark of Exclamation) का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है।

Notes for Readers― यह आर्टिकल केवल उन लोगों के लिए हैं जो इसमें रुचि रखते हैं। यदि आप इसको अपना पसंदीदा समझ कर पढ़ते हैं तो यह आपको जरूर और सबसे अच्छा भी समझमे आएगा। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो हमे comment कर के बताए और दोस्तों को भी share करें।

Post a Comment

0 Comments