Hindi Notes

A Letter to God Long Answer about 60 words Complete notes in Hindi Download free pdf


Answer the following questions in about 60 words:

Q.1. What was Lencho's worry? What help did he seek from God?

लैंचो की परेशानी क्या थी? उसने ईश्वर से क्या सहायता मांगी?

(OR) What circumstances forced Lencho to seek help from God?

किन परिस्थितियों ने लैंचो को ईश्वर की सहायता की खोज के लिए बाध्य किया?

Ans. Lencho was a poor farmer. On account of deep faith in God's mercy his days were that his fields passing carefree.

When the rain fell heavily, Lencho was very happy. The reason was needed water badly.

But the rain continued for a long time. With the rain hailstones followed. So Lencho was sad. The reason was that whole of his standing crop was utterly ruined. Not a single grain was left.

For a while Lencho was nervous but he was a staunch believer in divine mercy. He wrote a letter to God demanding one hundred pesos to live, support his family and sow his fields again.. As soon as this idea came into his mind, all his worries disappeared suddenly. He was free from tension.

लैचो एक गरीब किसान था। ईश्वर में अटूट विश्वास होने के कारण उसके दिन चिन्तामुक्त व्यतीत जब भीषण वर्षा हुई, लैंचो बहुत प्रसन्न हुआ। इसका कारण यह था कि उसके खेतों को पानी की आवश्यकता थी।

परन्तु वर्षा काफी समय तक होती रही। वर्षा के साथ ओले भी गिरे। अतः लैचो दुःखी था। इसका कारण यह था कि उसकी सम्पूर्ण खड़ी फसल नष्ट हो गयी थी। अनाज का एक भी दाना नहीं बचा था। कुछ समय तक लैंचो निराश था परन्तु वह ईश्वरीय कृपा में अटूट आस्था रखने वाला व्यक्ति था। उसने जीवित रहने के लिए, अपने परिवार के पोषण के लिए तथा अपने खेतों को बोने के लिए एक सौ पीसौ की याचना करते हुए ईश्वर को एक पत्र लिखा। ज्योही उसके मस्तिष्क में यह विचार आया, उसकी सम्पूर्ण चिन्ताएँ अचानक समाप्त हो गयी। वह तनावमुक्त हो गया।

Q. 2. How and why did Lencho write a letter to God? Who received the letter and what did he do?

लैंचो ने भगवान को पत्र क्यों और कैसे लिखा ? पत्र किसने प्राप्त किया और उसने क्या किया? 

(OR) Why did Lencho write a letter to God? In whose hand did the letter fall and what was his response to it? 

लैंचो ने ईश्वर को पत्र क्यों लिखा? पत्र किसके हाथ पड़ा और उस पर इसकी (पत्र की) क्या प्रतिक्रिया हुई?

Ans. Lencho was a hardworking farmer. His crops were completely destroyed by the hailstorm. His family had nothing to eat. He believed that God would not let them die of hunger. His only hope was now to get help from God. So he wrote a letter to God requesting him to send him one hundred pesos. With this money he would sow his field again and feed his family.

The postmaster received the letter through the postman. He was deeply impressed by the letter-writer's faith in God. He opened the letter and read it. He raised money in order to help the needy farmer. He sent the money to Lencho on behalf of God. 

लैचो एक परिश्रमी किसान था। ओलों के तूफान से उसकी फसल पूरी तरह नष्ट हो गयी थी। उसके परिवार के पास खाने को कुछ भी नहीं था। उसका विश्वास था कि भगवान उन्हें भूख से नहीं मरने देगा। अब उसकी एकमात्र आशा भगवान की सहायता थी। अतः उसने भगवान को एक पत्र लिखा जिसमें सौ पीसौ भेजने की प्रार्थना की गयी थी। इस धन से वह अपना खेत फिर से बोयेगा और अपने परिवार का पेट भरेगा।

पोस्टमास्टर ने पोस्टमैन के माध्यम से वह पत्र प्राप्त किया। पत्र लेखक के भगवान में विश्वास से वह बहुत प्रभावित हुआ। उसने पत्र खोला और पढ़ा। जरूरतमन्द किसान की मदद करने के लिए उसने धन एकत्र किया। यह धन उसने भगवान की ओर से लैचो को भेज दिया।

Q. 3. How did the post-office employees help Lencho? 

पोस्टऑफिस के कर्मचारियों ने लैचों की किस प्रकार मदद की?

Ans. The postmaster read the letter of Lencho to God. He decided to help Lencho and his needy family. He gave a part of his salary. He collected some money from other post-office employees. He also requested his friends to give money for this act of charity. But he was able to collect only seventy pesos. He sent the money to Lencho in an envelope. Lencho received the letter but it contained only seventy pesos. He became angry as God would not make such a mistake. He concluded that the post-office employees had cheated him. He called them a bunch of crooks.

पोस्टमास्टर ने लैचो का भगवान के नाम लिखा पत्र पढ़ा। उसने लैचो और उसके जरूरतमन्द परिवार की मदद करने का निश्चय किया। उसने अपने वेतन का एक अंश दिया। कुछ धन उसने पोस्टऑफिस के अन्य कर्मचारियों से एकत्र किया। उसने अपने कुछ मित्रों से भी परोपकार के इस कार्य में धन देने का निवेदन किया। किन्तु वह केवल सत्तर पीसी ही एकत्र कर सका। यह धन एक लिफाफे में रखकर उसने लैचो को भेज दिया। लैचो को पत्र मिल गया लेकिन उसके अन्दर केवल सत्तर पीसौ थे। वह क्रोधित हो गया क्योंकि भगवान ऐसी गलती नहीं कर सकता था। उसने निष्कर्ष निकाला कि पोस्टऑफिस के कर्मचारियों ने उसके साथ धोखा किया है। उसने उन्हें उगों का दल कहकर पुकारा।

Q. 4. What did the postmaster do to Lencho's letter to God? Why did he do so? 

पोस्टमास्टर ने लैचो के भगवान को लिखे पत्र का क्या किया? उसने ऐसा क्यों किया?

Ans. The postmaster received the letter of Lencho to God through the postman. He was deeply impressed by the writer's innocent faith in God. He opened the letter and read it. He realised that to answer the letter he required money in addition to goodwill, ink and paper. To answer the letter the postmaster collected money from his colleagues and friends and also gave a part of his salary. He sent the money to Lencho on behalf of God in an envelope. The postmaster did so to help Lencho in the hour of his need. And by helping he kept Lencho's faith in God unshaken. He also felt the contentment of a man who had performed a good deed.

पोस्टमास्टर ने लैचो द्वारा भगवान को लिखा पत्र पोस्टमैन के माध्यम से प्राप्त किया। पत्र लेखक के भगवान में विश्वास को देखकर वह बहुत प्रभावित हुआ। उसने पत्र खोला और उसे पढ़ा। उसने महसूस किया कि पत्र का उत्तर देने के लिए उसे सद्भावना, स्याही और कागज के अलावा धन की भी आवश्यकता थी। पत्र के उत्तर के लिए पोस्टमास्टर ने अपने सहयोगियों और मित्रों से धन एकत्र किया और स्वयं भी अपने वेतन का एक अंश दिया। यह धन उसने एक लिफाफे में रखकर भगवान की ओर से लैंचो को भेज दिया। जरूरत के समय लैचों की मदद करने के लिए पोस्टमास्टर ने ऐसा किया। और इस प्रकार सहायता करके उसने लैनो के भगवान में विश्वास को टूटने नहीं दिया। उसे ऐसा सन्तोष भी प्राप्त हुआ जैसा किसी को अच्छा काम करने पर प्राप्त होता है।

Q. 5. Write a character-sketch of the postmaster. पोस्टमास्टर का चरित्र चित्रण कीजिए।

(OR) How do you like the character of postmaster in the lesson A Letter to God.

Give reasons for your answer.

 'A Letter to God' पाठ में आप पोस्टमास्टर के चरित्र को किस प्रकार पसन्द करते हैं? अपने उत्तर का कारण दीजिए।

Ans. The postmaster was a fat, good and generous person. He was cheerful and fun loving. When he saw the letter to God, he broke out laughing. For the sake of fun, he decided to answer the letter in order to shake the writer's faith in God. He was also a kind and generous person. He decided to help the needy farmer. He collected money from post-office employees and friends and himself gave a part of his salary. He experienced the satisfaction of a man who had done a good deed. Thus there were admirable qualities in the character of the postmaster.

पोस्टमास्टर एक मोटा, अच्छा और उदार व्यक्ति था। वह हँसमुख और मजाक पसन्द था। जब उसने भगवान के नाम आया पत्र देखा तो वह खिलखिला कर हँस पड़ा। हँसी-मजाक के लिए ही उसने इस पत्र का उत्तर देने का निश्चय इसलिए किया ताकि पत्र के लेखक के भगवान में विश्वास को डिगा सके। वह एक दयालु और उदार व्यक्ति भी था। उसने जरूरतमन्द किसान की मदद करने का निश्चय किया। उसने पोस्टऑफिस के कर्मचारियों और मित्रों से धन एकत्र किया और स्वयं भी अपने वेतन का एक अंश दिया। उसने उस व्यक्ति जैसे सन्तोष का अनुभव किया जिसने एक भला काम किया था। इस प्रकार पोस्टमास्टर के चरित्र में प्रशंसनीय गुण थे।

Q. 6. Give a character sketch of Lencho.

लेंचो का चरित्र चित्रण कीजिए।

Ans. Lencho was a poor farmer. He was a hardworking man. He had full faith in God. So he was satisfied and happy. He had full confidence in God's kindness. His fields needed water. So when rain began to fall, he felt very happy. But his joy was short-lived. The rain fell heavily. With the rain, hailstones also fell in large number. He was unhappy to see the whole crop ruined. He felt worried how he would support the family, sow his field and get the next crop good. So he was in tension. .

Lencho remembered God. He had full faith in God's mercy. So he wrote a letter to God requesting him to send him one hundred pesos. He felt carefree. His faith bore fruit. He received help from the side of God. He received an envelope in which there were seventy pesos. His worries disappeared.

लैचों एक गरीब किसान था। वह परिश्रमी पुख्य था। ईश्वर में उसे पूर्ण विश्वास था। अतः वह सन्तुष्ट और प्रसन्न रहता था। उसे भगवान की दयालुता में पूर्ण विश्वास था। उसके खेतों को पानी की आवश्यकता थी। इसलिए जब वर्षा होने लगी तो उसने प्रसन्नता का अनुभव किया। परन्तु उसकी प्रसन्नता थोड़े समय तक रहने वाली सिद्ध हुई। वर्षा मूसलाधार हुई। वर्षा के साथ ओले भी बड़ी संख्या में गिरे। अपनी पूरी फसल को नष्ट होते देख वह दुखी हो गया। वह सोच कर चिन्तितः हो गया कि पूरे वर्ष परिवार का पोषण कैसे करेगा, खेतों को कैसे बोयेगा और अगली फसल अच्छी कैसे लेगा। अतः वह तनाव में था।

Q. 7. Give briefly the story of 'A Letter to God. What did the postmaster do? 

'A Letter to God' नामक कहानी संक्षेप में लिखिए। पोस्टमास्टर ने क्या किया?

Ans. Lencho was a poor farmer. But he was happy and satisfied. He had full confidence on God's kindness. Once the rain fell heavily. Lencho's crops were totally ruined. So he was very sad.

He went to post-office. He wrote a letter to God. He requested God to send one hundred pesos otherwise his family would starve. When the postmaster read the letter, he was surprised. He wished that he would have faith on God's mercy like the writer of the letter. So he collected money from his friends and the post-office employees. But the sum collected was seventy pesos. When Lencho opened the envelope, he found only seventy pesos in place of one hundred pesos.

लैचो एक गरीब किसान था। परन्तु वह प्रसन्न और सन्तुष्ट था। उसे भगवान की दयालुता में पूर्ण विश्वास था। एक बार बहुत जोर की वर्षा हुई। लैचो की फसल पूर्ण रूप से नष्ट हो गयी। अतः वह बहुत दुःखी था। वह पोस्टऑफिस गया। उसने भगवान को एक पत्र लिखा। उसने भगवान से सौ पीसो भेजने की प्रार्थना की अन्यथा उसका परिवार भुखमरी का शिकार हो जाता। जब पोस्टमास्टर ने पत्र पढ़ा, वह आश्चर्यचकित हो गया। उसने पत्र लेखक के समान ही भगवान की दयालुता में विश्वास की इच्छा की। अतः उसने अपने मित्रों और पोस्टऑफिस के कर्मचारियों से धन एकत्र किया। परन्तु एकत्र किया गया धन केवल सत्तर पीसी ही था। जब लैचो ने लिफाफा खोला उसे सौ पीसी के स्थान पर केवल सत्तर पीसी ही प्राप्त हुए।

Q. 8. Describe the falling of rain and the damage it caused in the lesson A Letter to God'.

'A Letter to God' नामक पाठ में वर्षा के होने तथा उसके द्वारा होने वाली हानि का वर्णन कीजिए। 

Ans. Lencho was a poor farmer. He had full faith in God. So he was satisfied. His fields needed water. So when the rain began to fall, he was very happy. But his joy was short-lived. The reason was that with the raining hailstones also fell in large number. So whole of his crops was ruined.

The result of the raining was that Lencho had to face the problem of total ruin. How he would support the family throughout the year and how he would sow his field, were worrying his mind. So he was in tension.

As Lencho had full faith in God and His mercy, so he wrote a letter to God requesting him to send him one hundred pesos. After writing the letter to God, he was carefree.

लैचो एक गरीब किसान था। उसे ईश्वर में पूर्ण विश्वास था। अतः वह सन्तुष्ट था। उसके खेतों को पानी की आवश्यकता थी। इसलिए जब वर्षा प्रारम्भ हुई तो वह बहुत प्रसन्न था। परन्तु उसकी प्रसन्नता क्षणिक थी। इसका कारण यह था कि वर्षा के साथ बड़ी संख्या में ओले भी गिरे। इसलिए उसकी सम्पूर्ण फसल नष्ट हो गयी। वर्षा का परिणाम यह हुआ कि लैचो को सम्पूर्ण विनाश की समस्या का सामना करना पड़ा। वह पूरे वर्ष अपने परिवार का पोषण किस प्रकार करेगा और वह अपने खेतों को किस प्रकार बोयेगा, उसके मस्तिष्क को चिन्तित कर रही थी। अतः वह तनाव में था। ईश्वर और उसकी दयालुता में पूर्ण विश्वास होने के कारण लेचो ने ईश्वर से सौ पीसी भेजने की याचना करते हुए एक पत्र लिखा। ईश्वर को पत्र लिखने के पश्चात वह निश्चिन्त हो गया।


Post a Comment

0 Comments