Murder in Hostel Part-1.

मर्डर इन होस्टल.. भाग-1.


 राहुल वर्मा, एक मेडीकल कालेज मे पड्ने वाला एक आम छात्र्,जो सिर्फ़ दिखने मे हि सिधा था बल्कि अस्लियत मे वो रइस बाप का बिगडा हुआ लड्का था"

20/11/18     12:05 am

आकाश ओर राहुल दोनो ने कुछ हि दिन पहले इस कॉलेज मे दाखिला लिया था,दोनो एक हि रूम मे रहते हे,
11 बजे आकाश अपने मामा के यहा से वापस अपने होस्टल आता हे तो वो देखता हे के दरवाजा बाहर से बन्द हे,उसे लगा के राहुल कही बाहर गया हुआ हे पर जेसे हि आकाश दरवाजा खोलता हे उसके होश उड जाते हे क्योकि अन्दर राहुल म्रत अवस्था मे मिलता हे,,


ये देख कर आकाश तुरन्त अपने होस्टल के वार्ड्न को काल करके बुला लेता हे
अमित शर्मा तुरन्त ही होस्टल पहुचते हे,ओर गार्ड से कह कर सारे बाहर जाने के सारे रास्ते बन्द करवा देते हे ओर फ़िर जाने माने जासुस जिनका  नाम राघव था उनको फोने करते हे
11 बजकर 35 मिनट पर राघव  क्राइम स्थल पर  जा के देखता हे तो वो पाता हे कि लाश को किसि धार वाले हथीयार से बुरी तरह से वार किया गया हे
राघव  पुरे रूम को देखता हे अच्ची तरह पर उसे कही पर भी हथियार नही मिलता .
अब राघव आकश से  सवाल पुछ्ता है,
तुम कहा थे कल रात
तो आकाश बोलता है कि मै अपने मामा के यहा गया हुआ था ओर जब वापस आया तो देखा के राहुल कि लाश यहा पडी हुइ हे;
ह्म्म्,थिक हे
तुम्हे किसी पर शक हे? राघव पुछ्ता हे,
हा सर मुझे पता हे राहुल को कोन मार सकता हे;
कोन्,,राघव उत्साहित हो कर सवाल पुछ्ता हे
सर ये काम जरुर अंकित का होगा
क्यो.? 
क्योकि सर वो हमारा सिनियर हे ओर वो बार बार राहुल को परेशान करता था
ओर जब राहुल ने अमित सर से शिकायत कि तो अंकित ने राहुल को जान से मारने की धमकी भी दि थी;
राघव थोडी देर सोचता हे ओर फ़िर अंकित को बुलाने के लिए बोलता हे,
जब अंकित आता हे तो राघव उससे
बोलता हे के तुमने राहुल को क्यो मारा
तब अंकित बोला के मेने नही मारा हे
तब राघव उस को क्रोस चेक करता हे ओर बोलता हे के मेरे पास वो हथीयार हे जिससे राहुल का खुन हुआ हे
ओर आकाश कह रहा हे के कल रात तुम राहुल के कमरे मे आये थे इसका सिर्फ़ एक हि मतलब हे के खुन तुमने हि किया हे,
अब चलो मेरे साथ, तुम्हे थोडा जैल कि हवा खिलानि हे
राघव अमित सर से हाथ मिलाता हे ओर अपनी फ़ीस लेने के बाद अंकित को अपने साथ ले जाता हे,
अंकित पुरे रास्ते भर यही कहता हुआ आया के भइया मे सच बोल रहा हु  मेने खुन नही किया..
भैया???
असल मे अंकित राघव का छोटा भाइ था
अब अंकित ओर राघव दोनो घर पहुच चुके थे
भेया मे सच बोल रहा हु मेने खुन नही किया
हा छोटे मुझे पता हे के तुने खुन नही किया
मतलब, तो फ़िर आप ने अमित सर को यु क्यो बोला के आप मुझे जैल ले जा रहे हो
वो इसिलिए क्योंकि मुझे शक हे के खुन किसी ओर ने किया हे ओर उसका मकसद बरसो से  पल रहे गुस्से के कारण था
आप इतना यकीन के साथ केसे कह सकते हो
क्योंकि जिस तरह से राहुल कि लाश पर वार किये हुए थे उस से यही प्रतित होता हे के खुन बदले कि भावना से हुआ हे
हा तो अब आगे क्या करना हे? अंकित ने पुछा 
राघव ने जवाब देते हुए कहा के तुझे अपने उपर लगे आरोप को मिटाने के लिए ओर कातिल तक पहुचने के लिए मेरे लिए जासुस बनना पडेगा,क्या तु कर पाएगा
अंकित ने जवाब देते हुए कहा
क्यो नही भइया
आप के साथ रह कर मुझे भि थोडी बहुत जासुसी तो आ ही गयी हे
मुझे क्या करना होगा?
राघव ने कहा के सबसे पहले तो मे तुम्हे राहुल के फोन कि काल रिकॉर्ड निकालनी हे
आज शाम तक ये काम हो जाना चाहिए
जि,थिक हे भाइ
शाम 5:40 बजे
राघव को अंकित के द्वारा कॉल रिकॉर्ड कि लिस्ट मिल जाती हे,
ओर उस लिस्ट मे सबसे अच्ची बात ये थी के एक नम्बर पर बार बार बात हुइ पर 2 महिने बात नही हुइ ओर फ़िर अचानक से फ़िर से बात शुरू हो गयी,
बात सोचने वाली थीं कि अचानक एसा क्या हुआ जो बात बन्द हो गयी ओर फ़िर से चालु हो गयी, राघव भी यही सोच रहा था के तभी उसके पास अंकित आता हे ओर बोलता हे भाइ इस नम्बर का पता चल गया, ये नम्बर किसि ज्योति नाम कि लड्की पर रजिस्टर हे,ओर ये लड़की भोपाल मे रहती हे
राघव बोलता हे,,, छोटे तु अभी के अभी भोपाल के लिए निकल ओर इस लड्की से बात कर के पता कर इसका ओर राहुल का क्या रिश्ता हे,
मुझे एसा लगता हे के हो ना हो ये लड्की इस मडर मे शामिल हे;
जि भाइ मे अभी भोपाल के लिए निकलता हु

कहानी का भाग 1, खत्म हुआ ।।

आशा करता हु के आप लोगो को कहानि पसंद आई होगी
मै जल्द ही आप के लिए कहानी का अगला पार्ट ले कर आउन्गा, 
आप कमेन्ट  के द्वारा मुझे बता सकते है कि कहानी कैसी लगी।।
धन्यवाद...

कहानी का अगला भाग (Part-2)पढ़ने के लिए नीचे दिए गए link पर Click करें ..

https://mgsgyanbook.blogspot.com/2018/11/murder-in-hostel-part-2.html

No comments:

Post a Comment

Comment Related Post